Home / Mind Power / कहाँ छिपी हैं आपकी शक्तियाँ?

कहाँ छिपी हैं आपकी शक्तियाँ?

मनुष्य की शक्तियाँ कहाँ छिपी हैं?

मनुष्य के पास असीम शक्तियाँ हैं, यह बात हम सभी ने अपने ग्रंथों-शास्त्रों में पढ़ी हैं लेकिन यह बात कितनी सत्य है शायद इसका अंदाजा हम सभी को नहीं है. केवल एक विश्वास है कि ग्रंथों में लिखी हुई सभी बातें सत्य हैं. इसी सन्दर्भ में सबसे पहले हमारे मन में एक सवाल आता है कि हमारे पास असीम शक्तियाँ हैं तो वो कहाँ छिपी हुई हैं? और इनका प्रयोग हम कैसे कर सकते हैं? आइये इस बात को एक कथा द्वारा समझते हैं –

कथा – एक बार देवताओं में चर्चा हो रहो थी, चर्चा का विषय था मनुष्य की हर मनोकामनाओं को पूरा करने वाली गुप्त चमत्कारी शक्तियों को कहाँ छुपाया जाये. सभी देवताओं में इस पर बहुत वाद- विवाद हुआ. एक देवता ने अपना मत रखा और कहा कि इसे हम एक जंगल की गुफा में रख देते हैं. दूसरे देवता ने उसे टोकते हुए कहा नहीं-नहीं, हम इसे पर्वत की चोटी पर छिपा देंगे. उस देवता की बात ठीक पूरी भी नहीं हुई थी कि कोई कहने लगा, “न तो हम इसे कहीं गुफा में छिपाएंगे और न ही इसे पर्वत की चोटी पर हम इसे समुद्र की गहराइयों में छिपा देते हैं यही स्थान इसके लिए सबसे उपयुक्त रहेगा.”

सबकी राय खत्म हो जाने के बाद एक बुद्धिमान देवता ने कहा क्यों न हम मानव की चमत्कारिक शक्तियों को मानव-मन की गहराइयों में छिपा दें. चूँकि बचपन से ही उसका मन इधर-उधर दौड़ता रहता है, मनुष्य कभी कल्पना भी नहीं कर सकेगा कि ऐसी अदभुत और विलक्षण शक्तियां उसके भीतर छिपी हो सकती हैं, और वह इन्हें बाह्य जगत में खोजता रहेगा. इन बहुमूल्य शक्तियों को हम उसके मन की निचली तह में छिपा देंगे.

बाकी सभी देवता भी इस प्रस्ताव पर सहमत हो गए और ऐसा ही किया गया. मनुष्य के भीतर ही चमत्कारी शक्तियों का भण्डार छुपा दिया गया, इसलिए कहा जाता है मानव मवन में अद्भुत शक्तियां निहित हैं.

कथा का सार – दोस्तों इस कहानी का सार यह है कि मानव मन असीम ऊर्जा का कोष है. इंसान जो भी चाहे वो हासिल कर सकता है. मनुष्य के लिए कुछ भी असाध्य नहीं है. लेकिन बड़े दुःख की बात है उसे स्वयं ही विश्वास नहीं होता कि उसके भीतर इतनी शक्तियां विद्यमान हैं. अपने अंदर की शक्तियों को पहचानिये, उन्हें पर्वत, गुफा या समुद्र में मत ढूंढिए बल्कि अपने अंदर खोजिए और अपनी शक्तियों को निखारिए. हथेलियों से अपनी आँखों को ढंककर अंधकार होने का शिकायत मत कीजिये. आँखें खोलिए और अपने भीतर झांकिए और अपनी अपार शक्तियों का प्रयोग कर अपना हर एक सपना पूरा कर डालिये।

mind

अब दूसरा सवाल यह आता है कि अगर हमारे अंदर ही ये शक्तियाँ हैं तो हम इसका प्रयोग कैसे कर सकते है? तो आइये आज हम अपने मन की शक्तियों में से एक शक्ति का प्रयोग करना सीखते हैं –

Situation – जब कभी आप समस्याओं से घिरे हों और उनमें से निकलने का रास्ता न मिल रहा हो या आपको किसी विशेष कार्य के लिए किसी खास idea की ज़रूरत हो तो आप अपनी शक्ति का इस्तेमाल कर सकते हैं. कैसे करना है, आइये समझते हैं –

Procedure – रात को सोने से पहले सबसे पहले अपने मन को कुछ देर relax कर लें. तब तक, जब कि कुछ हद तक मन से विचार खत्म न हो जाएं. फिर relax mind से अपने मन को कहिये – “मुझे यह problem है और इस problem का solution मुझे नहीं मिल रहा. मुझे पता है कि तुम्हारे पास इस problem का solution है. अभी तो मैं सो रहा हूँ लेकिन जितनी जल्दी हो सके तुम इस problem का solution मुझे दे दो. मुझे इसकी बहुत ज़रूरत है. यह तुम्हारे लिए मेरा order है”

ऐसा कहकर आप relax होकर सो जाईये और अपने उस problem के solution का इंतज़ार कीजिये. बहुत जल्दी ही आपको आपका solution मिल जाएगा. या सपने द्वारा, या किसी व्यक्ति द्वारा या आपके मन में खुद ही वो idea आ जाएगा जिसका आप बेसब्री से इंतज़ार कर रहे थे.

यदि उत्तर न मिले तो इसका अर्थ है कि आपका मन शांत नहीं है. अशांत मन कभी भी आपकी problems को solve नहीं कर सकता. इसलिए मन को शांत करना सबसे ज़्यादा ज़रुरी है. मन जितना अधिक शांत होगा, उतनी जल्दी ही आपको आपके सवाल का जवाब मिल जाएगा.

यह केवल एक शक्ति है जो आपको आपकी problem का solution दे रही है. ऐसी असीम शक्तियाँ हम सभी के अंदर है, ज़रूरत है तो केवल मन को शांत करने की. मन अशांत होने के कारण हम अपनी शक्तियों का इस्तेमाल नहीं कर पाते. तो आइये आज से एक संकल्प लेते हैं कि जीवन में चाहे कोई भी परिस्थिति आ जाए, हम अपने मन को अशांत नहीं होने देंगे, धैर्य से काम लेते हुए अपने मन की शक्तियों का सही इस्तेमाल करेंगे……..

धन्यवाद

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*